हे जीयो के दिवानो

हे जीयो के दिवानो

हे जीयो के दिवानो जरा आँख में भर लो पानी मुफ्त कॉल और डेटा की खत्म हो गई कहानी जब तक था मुफ्त में डेटा तुम ने खूब करी मनमानी अब लगेगा खु...
Read More
*ऐ शहर*

*ऐ शहर*

*तेरी बुराइयों* को हर *अख़बार* कहता है, और तू मेरे *गांव* को *गँवार* कहता है   // *ऐ शहर* मुझे तेरी *औक़ात* पता है  // तू *बच्ची* को भी *...
Read More

स्वपन

गहरी नींद मेँ विचारों का बोझ बनता तरह तरह के स्वपन कभी मन को कचोटता कभ करता उल्लास विचारों के गलियारों मेँ भवन निर्माण की तरह गु...
Read More
जबरदस्त घोषणा

जबरदस्त घोषणा

मुकेश अम्बानी 🕵ने पार्टी रखी.. सबको एक हॉल में बिठाया गया तभी एक घोषणा हुई 🗣.... 2 रुपये में अनलिमिटेड ब्रेकफास्ट ☕🍞🌮🍊🍎.... सब ल...
Read More
अपनी गृहस्थी

अपनी गृहस्थी

बहुत ही खूबसूरत कविता है, इसकी एक एक पंक्ति में आंनद है, प्यार है... Dedicated to All Couples.. अपनी गृहस्थी को कुछ इस तरह बचा लिया करो क...
Read More
चेतना

चेतना

मनोवैज्ञानिक कहते हैं, दो तरह के लोग होते हैं। एक तो वे लोग, सुबह जिनकी चेतना बहुत प्रखर होती है और सांझ होते-होते धूमिल हो जाती है। दूसरे व...
Read More
चेतना

चेतना

मनोवैज्ञानिक कहते हैं, दो तरह के लोग होते हैं। एक तो वे लोग, सुबह जिनकी चेतना बहुत प्रखर होती है और सांझ होते-होते धूमिल हो जाती है। दूसरे व...
Read More
नारी और वृक्ष

नारी और वृक्ष

🌹नारी और वृक्ष  एक से होते हैं, खुश हों तो दोनों फूलों से सजते हैं.....! दोनों ही बढ़ते और छंटते हैं, इनकी छांव में कितने लोग पलते हैं.....
Read More